महाराष्ट्र की 288 और हरियाणा की 90 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को वोटिंग हो गई है। उम्मीदवारों की राजनीतिक किस्मत अब ईवीएम में कैद है। एग्जिट पोल के आंकड़े में कांग्रेस के लिए निराशाजनक हैं।

नईदिल्ली । महाराष्ट्र की 288 और हरियाणा की 90 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को वोटिंग हो गई है।  उम्मीदवारों की राजनीतिक किस्मत अब ईवीएम में कैद है। एग्जिट पोल के  आंकड़े में कांग्रेस के लिए निराशाजनक हैं। आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र और हरियाणा दोनों ही राज्यों में बीजेपी सत्ता में वापसी करती दिख रही है। देवेंद्र फडणवीस और मनोहर लाल खट्टर एक बार फिर प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बना सकते हैं। 

महाराष्ट्र में कुल 288 विधानसभा सीटें हैं और एग्जिट पोल के मुताबिक बीजेपी और उसके सहयोगियों को में 198-222 सीटों पर जीत हासिल हो सकती हैं।  वहीं, कांग्रेस और उसके सहयोगियों को 49-75 सीटों पर जीत मिल सकती है. अन्य को 4-21 सीटें मिलने का अनुमान है.राज्य में अलग-अलग पार्टियों को मिलने वाली संभावित सीटों की बात करे तो बीजेपी को 140, शिवसेना को 70, कांग्रेस को 31, तो वहीं एनसीपी के खाते में 32 सीटें जा सकती हैं। 

हरियाणा की कुल 90 सीटों में से बीजेपी विपक्ष का सफाया करते हुए 66-74 सीटों पर जीत हासिल कर सकती है. वहीं कांग्रेस के खाते में 3-12 सीटें जा सकती हैं । एग्जिट पोल के मुताबिक अन्य के खाते में 6-16 सीटें जा सकती हैं।हरियाणा चुनाव में बीजेपी को 42 फीसदी, कांग्रेस को 26 फीसदी, जेजेपी को 19 फीसदी और अन्य पार्टियों को 13 फीसदी वोट मिल सकता है।

हरियाणा में सोमवार को हुए विधानसभा चुनावों में 65.75 फीसदी वोट पड़े जो 2014 के चुनावों की तुलना में काफी कम है। 2014 के विधानसभा चुनावों में मतदान करीब 76.54 फीसदी हुआ था जबकि इस साल लोकसभा चुनावों में दस संसदीय सीटों पर 70.36 फीसदी वोट पड़े थे।


You may also like

Facebook Conversations