नए नियमों के तहत शुरु की गई तेजस एक्सप्रेस शनिवार को तकरीबन पौने तीन घंटे लेट हो गई। जिससे इस ट्रेन पर सफर कर रहे यात्रियों को मुआवजा मिलेगा।
लखनऊ में कृषक एक्सप्रेस के दो कोच डिरेल होने से सभी ट्रेनों का संचालन अस्त-व्यस्त हो गया।
IRCTC ने तेजस एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे सभी यात्रियों को रिफंड देने के लिए यात्रियों के मोबाइल में लिंक भेज दिया है।

नईदिल्ली । नए नियमों के तहत शुरु की गई तेजस एक्सप्रेस शनिवार को तकरीबन पौने तीन घंटे लेट हो गई। जिससे इस ट्रेन पर सफर कर रहे यात्रियों को मुआवजा मिलेगा।

दरअसल लखनऊ में कृषक एक्सप्रेस के दो कोच डिरेल होने से सभी ट्रेनों का संचालन अस्त-व्यस्त हो गया। जिसके चलते तेजस एक्सप्रेस समेत लखनऊ मेल, पुष्पक एक्सप्रेस, चंडीगढ़ एक्सप्रेस जैसी कई ट्रेनें लेट हो गई। ट्रेन लेट होने पर किसी भी ट्रेन में यात्रियों को मुआवजा देने की सुविधा नहीं है। केवल तेजस एक्सप्रेस में ऐसा नियम है। लिहाजा  IRCTC ने तेजस एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे सभी यात्रियों को रिफंड देने के लिए यात्रियों के मोबाइल में लिंक भेज दिया है। इस लिंक के जरिए यात्री मुआवजा के लिए क्लेम करेंगे।

 दरअसल कॉरपोरेट सेक्टर की देश की पहली ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में एक घंटे से ज्यादा ट्रेन लेट होने पर 100 और दो घंटे से अधिक लेट होने पर 250 रुपये देने का प्रवधान है। लखनऊ से 500 यात्रियों ने अपना टिकट करवाया था। जबकि 450 यात्री रवाना हुए। जबकि नई दिल्ली से 500 यात्रियों ने तेजस एक्सप्रेस से लखनऊ का सफर किया। जिसमें कई विदेशी यात्री भी शामिल थे। तेजस एक्सप्रेस सुबह 6:10 बजे की जगह 2:47 घंटे की देरी से 8:57 बजे रवाना हुई।  वापसी में तेजस एक्सप्रेस दोपहर 3:35 बजे की जगह शाम 5:30 बजे रवाना हो सकी।

तेजस एक्सप्रेस के लेट होने पर ट्रेन होस्टेस ने खाने-पीने के आइटम पर सॉरी का स्टीकर लगाकर यात्रियों को दिया गया। साथ ही लखनऊ से नई दिल्ली जाते हुए यात्रियों को गाजियाबाद में फ्री लंच ट्रेन छूटने से पहले चाय व कॉफी भी दी गई। 


You may also like

Facebook Conversations