दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में पढ़े अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी एस्तेय डिफ्लो को अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उनके साथ संयुक्त रूप से माइकल क्रेमर को भी यह सम्मान देने की घोषणा की गई है। तीनों अर्थशास्त्रियों को 'वैश्विक गरीबी खत्म करने के प्रयोग' के उनके शोध के लिए सम्मानित किया गया है।

ओस्लो । दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में  पढ़े अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी एस्तेय डिफ्लो को अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उनके साथ संयुक्त रूप से माइकल क्रेमर को भी यह सम्मान देने की घोषणा की गई है। तीनों अर्थशास्त्रियों को 'वैश्विक गरीबी खत्म करने के प्रयोग' के उनके शोध के लिए सम्मानित किया गया है। इकनॉमिक साइंसेज कैटिगरी के तहत यह सम्मान पाने वाले अभिजीत बनर्जी भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं।

अभिजीत ने 1981 में यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता से बीएससी के बाद 1983 में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से एमए की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद 1988 में उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी किया।

फिलहाल वह मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में इकनॉमिक्स के प्रफेसर हैं। वह और उनकी पत्नी डिफ्लो अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी ऐक्शन लैब के को-फाउंडर हैं। आपको बता दें कि बनर्जी ने 1981 में कोलकाता यूनिवर्सिटी से बीएससी किया था, जबकि 1983 में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से एमए किया था। इसके बाद उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से 1988 में पीएचडी की थी।


You may also like

Facebook Conversations